14.5 C
Dehradun
Saturday, February 17, 2024

नैनीताल की लोअर माल रोड की मरम्मत होगी, बजट 348 करोड़ रुपये

नैनीताल की लोअर माल रोड के ट्रीटमेंट को 348.01 करोड़ का बजट स्वीकृत हो गया है। इसके लिए लोनिवि ने टेंडर जारी कर दिए हैं। माल रोड पर नए सिरे से 45 मीटर लंबी और साढ़े चार मीटर चौड़ी सड़क बनेगी।

नैनीताल की लोअर माल रोड के ट्रीटमेंट को 348.01 करोड़ का बजट स्वीकृत हो गया है। इसके लिए लोनिवि ने टेंडर जारी कर दिए हैं। माल रोड पर नए सिरे से 45 मीटर लंबी और साढ़े चार मीटर चौड़ी कांक्रीट की सड़क बनाई जाएगी। ट्रीटमेंट के इस काम को पूरा होने में एक साल का समय लगेगा। इसको लेकर पीडब्ल्यूडी की ओर से पूरी तैयारी कर ली है। 

पहले दो बार लोनिवि की ओर से नैनीताल की लाइफ लाइन मानी जाने वाली लोअर माल रोड के ट्रीटमेंट की योजना फेल हो चुकी थी। इसके बाद टिहरी हाइड्रो कारपोरेशन लिमिटेड (टीएचडीसी) ने इसके ट्रीटमेंट की योजना तैयार की है। जिसके तहत लोअर माल रोड के धंस रहे हिस्से पर 45 मीटर सीसी सड़क बनाई जाएगी। ट्रीटमेंट के लिए नैनीझील में पहले हर तीन फीट पर 40 मीटर तक खड़े पाइप डाले जाएंगे।

जिन्हें आगे की ओर झुकाकर चोक किया जाएगा। इसके बाद 300 एमएम के सीमेंट के पाइप से टॉप किया जाएगा। अंत में बेस के ऊपर सीसी सड़क बनाई जाएगी। जिसमें 348.01 करोड़ रुपये का भारी भरकम खर्चा आएगा।

40 मीट तक बनेगी सड़क

लोनिवि प्रांतीय खंड के सहायक अभियंता जीएस जनौटी के अनुसार लोअर माल रोड ट्रीटमेंट के लिए 348.01 करोड़ रुपये स्वीकृत हो गए हैं। भले ही सड़क मात्र 40 मीटर तक बननी है पर यह बजट काफी अधिक लग रहा है। पर तकनीकि रूप से इस काम को पूरा करने का खर्चा बहुत अधिक है। टीएचडीसी ने यह प्रोजेक्ट बनाया है। इसके लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू हो गई है। एक साल काम पूरा होने में लगेगा।

2018 में धंस गई थी माल रोड 

नैनीताल में 18 अगस्त 2018 की शाम लोअर माल रोड रोड का 25 मीटर हिस्सा झील में समा गया था। इसके बाद तत्कालीन जिलाधिकारी ने जल्द अस्थाई ट्रीटमेंट कर यातायात सुचारू करवाया। पर एक हफ्ते बाद फिर पांच मीटर हिस्सा झील में गिर गया। 

आईआईटी की टीम का ट्रीटमेंट भी फेल 

आईआईटी रुड़की की टीम के सुझाव पर माल रोड पर ट्रीटमेंट का काम किया गया। 82 लाख के बजट से झील में बेस बनाकर मशीन लगाकर ड्रीलिंग कर व पाइप डालकर सड़क का अस्थाई ट्रीटमेंट किया। पर यह ट्रीटमेंट की योजना फेल हो गई। झील में ड्रिलिंग के दौरान पाइप बेस पर नहीं टिक पाए थे। जिसके बाद ट्रीटमेंट का काम टीएचडीसी को सौंपा गया है। 

माल रोड पर मिट्टी का क्षरण हो रहा

टीएचडीसी ने भू-धंसाव के कारणों की जांच में पाया कि सड़क के ऊपर मिट्टी सरक रही है। यहां से मिट्टी पानी के साथ बहकर धीरे-धीरे झील में गिर रही है। ऐसे में लोअर माल रोड के साथ अपर माल रोड और इसके ऊपर की पहाड़ी पर भी भूस्खलन का खतरा है। जांच के आधार पर तैयार रिपोर्ट के बाद ही यह ट्रीटमेंट हो रहा है। क्षेत्र में टोपोग्राफिकल सर्वे के साथ ही जियोलॉजिकल मैपिंग की गई है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles