26.2 C
Dehradun
Thursday, May 23, 2024

Uttarakhand कैबिनेट बैठक: स्नातक महाविद्यालयों में 25 प्रतिशत प्राचार्य सीधी भर्ती से आएंगे; 15 वर्ष का अनुभव आवश्यक है

नियमावली में बदलाव के बाद, पीएचडी धारक एसोसिएट प्रोफेसरों को आयोग के माध्यम से सीधी भर्ती से प्राचार्य बनने का मौका मिलेगा. इनमें कम से कम 15 साल का अनुभव होगा।

आयोग के माध्यम से प्रदेश के स्नातक महाविद्यालयों में प्राचार्यों के 25 प्रतिशत पदों पर सीधी भर्ती होगी। उत्तराखंड उच्चतर शिक्षा (समूह-क) सेवा संशोधन नियमावली को बृहस्पतिवार को कैबिनेट बैठक में मंजूरी दी गई। इससे प्रोफेसर या एसोसिएट प्रोफेसर के सीधे कॉलेजों में प्राचार्य बनने का अवसर मिल गया है।

सचिव उच्च शिक्षा शैलेश बगोली ने बताया कि इस नियमावली में संशोधन के बाद एसोसिएट प्रोफेसरों को सीधी भर्ती से प्राचार्य बनने का मौका मिलेगा, जिन्होंने पीएचडी की डिग्री प्राप्त की होगी और कम से कम 15 साल का अनुभव रखेगा।

उनका कहना था कि जल्द ही आयोग में भर्ती के पैटर्न पर भी निर्णय लिया जाएगा। लिखित परीक्षा या इंटरव्यू इन रिक्तियों का आधार हो सकता है। इस फैसले से स्नातक कॉलेजों में प्राचार्य पदों को भरना भी आसान होगा।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles