26.2 C
Dehradun
Wednesday, April 10, 2024

Badrinath हाईवे: 900 वर्ष पुराना प्राचीन मंदिर खतरे में..।भू-धंसाव, परिसर में पानी रिसने से बने गड्ढे

ऋषिकेश-बदरीनाथ राजमार्ग के किनारे कर्णप्रयाग में स्थित उमा देवी मंदिर धार्मिक आस्था का प्रतीक है। यहां बदरीनाथ की यात्रा पर जाने वाले भक्त भी देवी को देख सकते हैं।
उत्तराखंड में बदरीनाथ हाईवे पर कर्णप्रयाग में स्थापत्य कला और शिल्प के लिए प्रसिद्ध उमा देवी मंदिर खतरे में हैं। मंदिर के आंगन और नीचे लगातार भू धंस रहा है। 900 साल पुराना यह मंदिर इतिहास में सिमट सकता है अगर भू-धंसाव को रोका नहीं गया।

ऋषिकेश-बद्रीनाथ राजमार्ग के किनारे कर्णप्रयाग में स्थित उमा देवी मंदिर धार्मिक आस्था का प्रतीक है। यहां बदरीनाथ की यात्रा पर जाने वाले भक्त भी देवी को देख सकते हैं। मंदिर के प्रांगण में पिछले दस दिनों से निरंतर भूधंसाव हुआ है। मंदिर समिति के अध्यक्ष रविंद्र पुजारी ने कहा कि भूधंसाव का क्षेत्र लगातार बढ़ रहा है।
प्रांगण में बहुत से बड़े गड्ढे हैं। बारिश के पानी से मंदिर खतरा में है। मंदिर के आगे बिजली का पोल और फुलवारी भी पूरी तरह से धंस चुकी हैं। मंदिर को सुरक्षित रखने के लिए समय रहते उपाय नहीं किए गए तो मंदिर को खतरा हो सकता है। पालिका के उपाध्यक्ष शरुदीप आर्य ने बताया कि जेई के साथ मंदिर के प्रांगण की जांच की जाएगी।

यह मंदिर नागर शैली का है।

उमा का मंदिर नागर शैली में बनाया गया है। मंदिर के शीर्ष पर गोल कमलाकार पत्थर और कलश है। मंदिर में भगवती उमा की सुंदर मूर्ति सबका ध्यान आकर्षित करती है।

12 साल में उमा देवी की यात्रा होती है

12. विश्व कल्याण की कामना के लिए मां उमा शंकरी की दिवारा/ध्यान यात्रा। इस दौरान, उमा देवी विभिन्न गांवों में रहने वाली अपनी ध्याणियों को आशीर्वाद देती हैं, साथ ही तीर्थस्थलों और नदियों को भी घूमती हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles