31.4 C
Dehradun
Thursday, April 18, 2024

Nepal में बारिश: बैतड़ी में भारी बारिश से मां-बेटे की मौत, भूस्खलन से मलबे में दबकर तीन घायल

Nepal Weather: 25 वर्षीय अंजू जागरी और उसके पांच वर्षीय बेटे रीजन मलबे में दबने से मर गए। मलबे में दबकर कुछ पशु भी मर गए।

नेपाल के बैतड़ी जिले में भूस्खलन हुआ, जिसमें एक मां और एक बेटा मारे गए। तीन व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हैं। पीडित व्यक्ति अस्पताल में भर्ती हैं। रविवार की रात, बैतड़ी जिले के पुर्चूडी नगरपालिका-2 में पहाड़ी से हुए भूस्खलन से एक घर मलबे में दब गया।

बैतड़ी पुलिस के प्रवक्ता इंस्पेक्टर लोक राज जोशी ने बताया कि 25 वर्षीय अंजू जागरी और उसके पांच वर्षीय बेटे रीजन मलबे में दबने से मर गए। पड़ोस से आई 60 वर्षीय जस्ना बोहरा, 45 वर्षीय अंजू की सास राइमती और 14 वर्षीय देवर गोवर्धन सभी गंभीर घायल हो गए। मलबे में दबकर कुछ पशु भी मर गए।
बारिश के कारण भूस्खलन और मलबा गिरने से चीन सीमा को जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क फिर से बंद हो गई है। सोमवार को 42 सड़कों पर यातायात ठप रहा। भारी भूस्खलन से पिथौरागढ़ जिले के दोबाट में चीन सीमा को जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क फिर से बंद हो गई है। इससे व्यास, चौदास और दारमा घाटी के गांवों के बीच संपर्क टूट गया। बाटनागाड़ में मलबा आने से एक बार फिर पूर्णागिरि धाम का रास्ता बंद हो गया। साढ़े तीन घंटे तक ट्रांसपोर्ट ठप रहा।

सोमवार सुबह तेज बारिश के कारण मां पूर्णागिरि धाम के कपाट ढाई घंटे देरी से खुले। ये कदम मंदिर समिति ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए उठाए। लेकिन सुबह की पूजा और आरती हर दिन की तरह समय पर ही हुईं। बाटनागाड़ में मलबा हटाने के दौरान ओएफसी खत्म होने से पूर्णागिरि धाम में संचार सेवा ठप हो गई।

बागेश्वर जिले में दो घर क्षतिग्रस्त हुए। बिजली गिरने के कारण एक भैंस मर गया। जिले में छह सड़कें यातायात को बाधित करती हैं। अल्मोड़ा जिले में दो दिन से आठ सड़कें बंद हैं। 30 गांवों को बाहर से सड़क संपर्क नहीं है। बीस हजार से अधिक लोग चिंतित हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles