23.2 C
Dehradun
Monday, April 15, 2024

Uttarakhand प्रदेश: 11 आईएफएस और नौ रेंजर की जांच की फाइल खुली, जिनमें भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाए गए हैं

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश पर वन विभाग ने प्रतीक्षारत जांचों का विवरण सीएम कार्यालय को भेजा है। जांच का सामना करने वाले एक रेंजर और दो आईएफएस अफसर सेवानिवृत्त हो चुके हैं। इसमें पूर्व वन संरक्षक राजीव भरतरी का नाम भी है।

वन महकमे में भारतीय वन सेवा के 11 अधिकारियों सहित कुल 20 अफसरों के खिलाफ 23 विभागीय जांचों की फाइल फिर से खोली गई हैं। भ्रष्टाचार, अवैध कटान, आय से अधिक संपत्ति, वित्तीय अनियमितता और जनविरोधी आचरण के आरोपों पर ये जांचें अभी भी जारी हैं।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश पर वन विभाग ने प्रतीक्षारत जांचों का विवरण सीएम कार्यालय को भेजा है। जांच का सामना करने वाले एक रेंजर और दो आईएफएस अफसर सेवानिवृत्त हो चुके हैं। इसमें पूर्व वन संरक्षक राजीव भरतरी का नाम भी है।

उन पर कार्बेट टाइगर रिजर्व में पाखरो टाइगर सफारी बनाने के दौरान पेड़ों के अवैध कटान का आरोप लगाया गया है। उन्होंने हालांकि विभागीय आरोप पत्र को उच्च न्यायालय में चुनौती दी है। इन सभी जांचों में कई बहुत अच्छे हैं।

 

जांच का सामना कर रहे आईएफएस और उन लगे आरोप

जांच व अधिकारी                                             तत्कालीन पद                                                       आरोप

1. जेएस सुहाग (रिटायर्ड)                           अपर प्रमुख वन संरक्षक मुख्य

                      वन्यजीव प्रतिपालक के दायित्व पूरा न करना, कैंपा योजना में अनियमितता, कार्यों   के प्रति लापरवाही

2. डी. थिरुज्ञान (आईएफएस)                           क्षेत्रीय प्रबंधन,                                                       वन विकास निगम तैनाती अवधि में कार्यस्थल से बिना पूर्व सूचना के अनुपस्थित

3. डी. थिरुज्ञान संबंदम                                       उपवन संरक्षक                                                       मुख्यालय पर उपस्थित न रहना, लंबे समय से लेखाबुक का रखरखाव न करना

4. राहुल                                                            मुख्य वन संरक्षक                                                         कॉर्बेट टाइगर रिजर्व क्षेत्र में पाखरो टाइगर सफारी निर्माण में वृक्षों के अवैध कटान व अवैध निर्माण

5. राजीव भरतरी                                                 प्रमुख वन संरक्षक                                                   राहुल पर लगे सभी आरोप इन पर भी

6. किशन चंद (रिटायर्ड)                                     प्रभागीय वन अधिकारी                                                  राहुल पर लगे सभी आरोप इन पर भी

7. मान सिंह                                                               मुख्य वन संरक्षक                                                 कालसी अंतर्गत निजी भूमि से पातन की आड़ में साल वृक्षों का अवैध कटान

8. टीआर बीजूलाल                                                      उपवन संरक्षक                                                        सुपिन रेंज के पैदल मार्गों के संबंध में वित्तीय अनियिमतता

9. अशोक कुमार                                                          गुप्ता मुख्य वन संरक्षक                                          चंपावत वन प्रभाग में छिल्का गुलिया की अवैध निकासी

10. किशन चंद (रिटायर्ड)                                                उप वन संरक्षक                                                   आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने

11. एचके सिंह                                                                  आईएफएस                                                     राजाजी राष्ट्रीय पार्क में वन आरक्षी परीक्षा-2013 में अनियमितता

12. एचके सिंह                                                                      आईएफएस                                              र्जर पुनर्वास योजना में धनराशि आवंटन में अनियमितता

13. डॉ. अभिलाषा                                                                   उपवन संरक्षक                                          प्रभागीय वनाधिकारी के रूप में जन प्रतिकूल आचरण

14. तनुजा परिहार                                                         सहायक वन संरक्षक (निलंबित)                              सोलर फेंसिंग कार्यों में राजकीय धन का दुरुपयोग

इन नौ रेंजर की जांच जारी है

वन क्षेत्राधिकारी गंभीर सिंह धमांदा, अयामुद्दीन सिद्दीकी, अभिलाष वीर सक्सेना, विजय चंद्र भट्ट, धीर सिंह, हरेंद्र सिंह रावत, महेश सिंह बिष्ट, विनोद चौहान और बृज बिहारी शर्मा (सेवानिवृत्त) पर विभागीय जांच चल रही है। इनमें से कुछ ने अभी तक आरोपपत्रों का उत्तर विभाग को नहीं दिया है। एक-दो मामलों में जांच आख्या विभाग से मिलनी चाहिए। जांच अधिकारी को जांच रिपोर्ट को जल्द से जल्द भेजने का आदेश दिया गया है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles