24.7 C
Dehradun
Thursday, April 18, 2024

Uttarakhand मौसम: प्रदेश में अगले तीन दिन मेघ गिरेंगे, भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी है

Uttarakhand मौसम अपडेट: प्रदेश भर में तीन दिनों तक भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि संवेदनशील क्षेत्रों में भूस्खलन होने से सड़कें और राजमार्ग बंद हो सकते हैं।

शनिवार से अगले तीन दिनों तक उत्तराखंड के सभी जिलों में भारी बारिश होने की उम्मीद है। साथ ही, मौसम विभाग ने 29 जुलाई से 1 अगस्त तक राज्य में भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। विशेष रूप से चमोली, बागेश्वर और उत्तरकाशी के अधिकांश हिस्सों में भारी बारिश होने की उम्मीद है। अगस्त की शुरुआत भी बहुत बारिश से हो सकती है।

तीन दिनों तक प्रदेश भर के कई इलाकों में भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया गया है, मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि संवेदनशील क्षेत्रों में भूस्खलन होने से सड़कें और राजमार्ग बंद हो सकते हैं। ऐसे में पहाड़ी जिलों की यात्रा करने से पहले मौसम की जानकारी लेना चाहिए।

28 जुलाई को, पांच साल बाद, सामान्य से ९० प्रतिशत कम मेघ बरसे

28 जुलाई को देहरादून में पांच साल बाद सबसे कम बारिश हुई। शुक्रवार को दून में औसत से लगभग 90% कम बारिश हुई, सिर्फ 2.2 एमएम। 2018 में इस दिन 89.9 एमएम (सामान्य से करीब 67% अधिक) बारिश हुई थी, पांच साल पहले। 2019 से 2022 तक भी कम बारिश हुई है। शुक्रवार को भी राज्य में सामान्य से 52% कम बारिश हुई। यद्यपि, पूरे जुलाई में राज्य में सामान्य से ३९ प्रतिशत अधिक बारिश हुई है।

पिछले कुछ दिनों से देहरादून में कहीं-कहीं भारी बारिश हुई है।

जबकि कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश हो रही है। जो चलते हुए तापमान बढ़ाता है। बृहस्पतिवार को दून का अधिकतम तापमान 32 डिग्री पहुंच गया, जो दो डिग्री बढ़ा। जिले के अधिकतम तापमान में भी दो से छह डिग्री का इजाफा हुआ था। उधर, मौसम विभाग ने कहा कि अगस्त में राज्य में बहुत बारिश होने की उम्मीद है। जुलाई में कुछ जिलों में पिछले सालों की तुलना में कम बारिश हुई है, मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया। लेकिन इतना अंतर अक्सर देखने को मिलता है, अगस्त में बहुत बारिश होने की उम्मीद है।

सप्ताहभर में यूएस में हुई सबसे कम बारिश वाली शहर

ऊधमसिंह नगर में पिछले सप्ताह सबसे कम बारिश हुई। 19 जुलाई से 26 जुलाई तक यहां औसत से 66% कम बारिश हुई: सिर्फ 24.2 एमएम। जबकि बागेश्वर में सबसे अधिक बारिश हुई है। यहां एक सप्ताह में 256.7 एमएम (सामान्य से 324 प्रतिशत अधिक) बारिश हुई। दून में सप्ताह भर में औसत से सिर्फ 5% अधिक 140 एमएम बारिश हुई।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles