29.5 C
Dehradun
Friday, April 19, 2024

देहरादून में साहित्यकारों ने की कहानी संग्रह “रुकी हुई नदी” की समीक्षा

देहरादून। साहित्यकार डाक्टर नंदकिशोर हटवाल ने कहा है कि कोई भी कहानी संग्रह, तभी अच्छा कहलाता है जब भाषा सहज, सरल और बोधगम्य हो, शब्दों का प्रवाह हो। वह उन्हें ‘रुकी हुई नदी’ कहानी संग्रह में दिखाई दिया।

साहित्यकार डाक्टर हटवाल बतौर मुख्य अतिथि आज बृहस्पतिवार को साहित्यकार शूरवीर रावत के कहानी संग्रह ‘रुकी हुई नदी’ की पुस्तक समीक्षा बैठक में उत्तरांचल कंपलेक्स, हरद्वार रोड, देहरादून में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि लेखक घुमक्कड़ स्वभाव के हैं, उन्होंने नॉर्थ ईस्ट व अनेक राज्यों का भ्रमण किया है, वहाँ की भाषा संस्कृति से रूबरू हुए हैं।

आदिवासियों की भूमि पर भू माफिया के कब्जे हो रहे हैं, महिलाओं की आजादी खतरे में हैं, इसका बारीकी से वर्णन इस संग्रह के ‘विराम से पहले’ कहानी में है। नार्थ ईस्ट की भूगोल की व्यापक समझ इसमें दिखाई देती है। उन्होंने कहा कोविड-19 की खबरें अखबारों और टीवी में देखने को मिली लेकिन ‘द क्वारंटीन डेज’ पर पहाड़ के गांव पर जिस तरह से घटनाएं कोविड-19 हुई है वह कहानी के रूप में पहली बार पढ़ने को मिली।

साहित्यकार श्री रमाकांत बेंजवाल ने कहा कि रुकी हुई नदी कहानी संग्रह की 13 कहानियों में शुरुआती अंश बेहतरीन ढंग से लिखे गए हैं। शुरुआत में लिखी गई भाषा किताब को पूरी पढ़ने के लिए बाध्य करती हैं। उन्होंने कहा हमारी परंपराओं को अभिव्यक्ति देती कहानियां समाज की संवाहक है।

साहित्यकार शशि भूषण बडोनी ने कहा कि, शूरवीर रावत की कहानियां मधुमति, किस्सा, नवल, काफल ट्री, युगवाणी सहित अनेक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। यह कहानी संग्रह संस्कृति, लोक भाषा, लोक साहित्य, वहां का परिवेश, रहन-सहन, लोकरंग प्रदर्शित करता है।

जनकवि व पर्यावरणविद चंदन सिंह नेगी ने कहा है कि लालसा, पुरस्कार, अधूरी जात्रा, विराम से पहले, खीर का स्वाद, और भी हैं राहें, कहानियाँ उच्च कोटि की हैं। उन्होंने कहा यह एक दर्पण की तरह उनका मार्गदर्शन करती हैं और वही कहानियाँ छोटे- छोटे बच्चों को सही गलत की पहचान कराती हैं।

कहानियों के जरिये उन्हें नीति का ज्ञान होता हैं, उनमें संस्कारों की वृद्धि होती हैं। कहानियाँ इसलिए प्रभावशाली होती हैं। उनमें पात्र होते हैं, संवाद होते हैं, जो दिल और दिमाग में जगह बना लेते हैं। जिन्हें व्यक्ति आसानी से स्वीकार कर लेता हैं, याद रख पता हैं। यही कारण हैं कि कहानियों को सर्वांगिक विकास के लिए सबसे सुन्दर विधा समझा जाता हैं।

साहित्यकार श्री महावीर रवांल्टा ने कहा है कि शूरवीर रावत का नाम पढ़कर यह लगता है कि इसमें पहाड़ के जनजीवन लोकरंग की कहानियां लिखी गई होंगी, परंतु कहानी संग्रह में 4 कहानियां पूर्वोत्तर भारत के जनजीवन व संस्कृति को लेकर है जो कि हमारे लिए एक नई खिड़कियां खोलती हैं

साहित्यकार डॉ सत्यानंद बडोनी ने कहा रुकी हुई नदी में उत्तराखंड के गढ़वाल, कुमाऊं लोक भाषाओं के अतिरिक्त पूर्वी पर्वतीय अंचलों के आंचलिक शब्दों का अकूत प्रयोग हुआ है।आप कथानक के माध्यम से हास- परिहास राग -अनुराग बिरह- मिलन और कथा- व्यथा का मार्मिक वर्णन करने वाले दक्ष कथाकार हैं।

‘रुकी हुई नदी’ के लेखक श्री शूरवीर रावत ने कहा कि, कहानी संग्रह को इस तरह से लिखा गया है कि आम आदमी की समझ में भी आ जाये। उन्होंने कहा कि इस कहानी संग्रह को लिखने के लिए उन्होंने बहुत सारी यात्राएं की।

इस कहानी संग्रह को काव्यांश प्रकाशन ऋषिकेश ने प्रकाशित किया है। प्रकाशक श्री प्रबोध उनियाल ने इस अवसर पर कहा कि, इस तरह की कहानियां समाज में व्यापक प्रभाव डालती है। उन्होंने कहा कि वह किसी भी लेखक का हमेशा सम्मान करते रहेंगे।

पत्रकार शीशपाल गुसाईं ने ‘रुकी हुई नदी’ और ‘बहुत देर बाद’ कहानी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इन कहानियों को वही लोग लिख सकते हैं जिन्होंने गांव का जीवन जिया, जिन्होंने विधवा महिलाएं देखी और एमएससी पास लड़के को होटल की नौकरी करते हुए पाया।

उन्होंने कहा साहित्यकार शूरवीर रावत टिहरी के मदननेगी के समीप गांव हैं, गांव से वह इंटरमीडिएट की पढ़ाई के लिए प्रताप इंटर कॉलेज टिहरी में 70 के दशक में आते थे, वह इंटर कॉलेज डूब गया है और वह पगडंडी भी काफी ऊंचाई तक डूब गई है। अब उनका पहाड़ी पर गांव बचा हुआ है जहां से वह लोक जीवन की वास्तविक कहानियों का संसार देख रहे हैं। इस मौके पर लेखक अजय सिंह, सुरुचि ,अभिजीत निराला, प्रकाश चंद, हरीश थपलियाल सहित अनेक लोग मौजूद थे।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles